यूपीएससी परीक्षा को भारत की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक माना जाता है। इस परीक्षा को पास करने वाले उम्मीदवार IAS अधिकारी बनते हैं। इसलिए आईएएस बनना उतना आसान नहीं है जितना लगता है। लेकिन किसी ने ठीक ही कहा है कि गहराई नखो से नहीं हौंसला से भरी जाती है। आज हम ऐसी ही एक महिला के बारे में बात करने जा रहे हैं जिसने कम उम्र में बड़ी उपलब्धियां हासिल कर सभी को हैरान कर दिया है।


जी हां, स्वाति मिला महज 22 साल की उम्र में अपनी बेंच की सबसे कम उम्र की आईएएस ऑफिसर बन गई हैं। स्वाति मिला का जन्म अजमेर, राजस्थान में हुआ था, स्वामी ने अपनी स्कूली शिक्षा अजमेर से की थी। उनकी माँ चाहती थीं कि उनकी बेटी डॉक्टर बने लेकिन जब स्वाति 8वीं कक्षा में थी, तब उनका एक रिश्तेदार अधिकारी बन गया। जिसमें स्वाति के पिता अधिकारी बने और बहुत खुश हुए। और इस तरह अपने पिता की खुशी देखकर स्वाति ने तय किया कि वह भी एक अधिकारी बनेगी।

आपको बता दें कि जब स्वाति के पिता को इस बात का पता चला कि स्वाति ने आईएएस बनने का मन बना लिया है तो उनके पिता ने उनका साथ दिया और उनकी तैयारी में लग गए. इतना ही नहीं स्वाति के पिता अपनी बेटी का इंटरव्यू भी लेना चाहते थे। ताकि उनकी तैयारी अच्छी रहे। आपको बता दें कि स्वाति की मां एक पेट्रोल पंप में काम करती थीं और कड़ी मेहनत के बाद स्वाति ने साल 2007 में हुई यूपीएससी की परीक्षा में ऑल इंडिया में 260वीं रैंक हासिल की थी.

और आईएएस अधिकारी बने। वह उस बेंच की अधिकारी बनने वाली सबसे कम उम्र की महिला थीं। उसके बाद उन्हें मध्य प्रदेश में काम करने का मौका मिला। आपको बता दें कि स्वाति मिला की पोस्टिंग मध्य प्रदेश के मंडला में हुई थी जहां उन्होंने बड़े साहस के साथ भू-माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई की जिसके बाद भू-माफियाओं को उनके इस कृत्य का डर सताने लगा. और उसके बाद जब स्वाबती की खंडवा में पोस्टिंग हुई।


वहां भी उन्होंने इस समस्या का बहुत ही साहस के साथ सामना किया और वहां हर तरह के उपद्रवी तत्वों के खिलाफ कार्रवाई की। इस कार्रवाई के बाद ही स्वाति मिला की छवि एक ऐसी अधिकारी के रूप में उभरी जिसने कई तरह की समस्याओं और चुनावों का सामना करते हुए अपना काम पूरा किया और प्रशासन के साथ-साथ देश में अशांति पैदा करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने से नहीं डरती थी। इस प्रकार, स्वाति का नाम सुनकर अच्छा लगा।


नोट – वेबसाइट पर प्रकाशित सभी समाचार और कहानियां किसी न किसी स्रोत से ली गई हैं। हमारा मकसद सिर्फ आप तक अच्छी जानकारी पहुंचाना है। प्रकाशित होने वाली हर खबर और कहानी की सारी जिम्मेदारी लेखक और स्रोत की होगी। दैनिक पोर्टिका वेबसाइट या पेज की कोई जिम्मेदारी नहीं होगी। इसके अलावा दैनिक पोर्टिका किसी भी वायरल वीडियो की पुष्टि नहीं करता, कृपया ध्यान दें कि हमारी वेबसाइट और पेज पर अच्छी खबरें पढ़ते और साझा करते रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *